Gulabkothari's Blog

जून 3, 2011

पधारो म्हारे देश!

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की अध्यक्ष, यू.पी.ए. की अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी आज देश के सबसे बड़े प्रान्त की यात्रा पर आ रही हैं। स्वागत है! राजस्थान की इस यात्रा में वे कुछ ऎसे निर्णय कर सकती हैं जो देशहित में बहुत महत्वपूर्ण भी हैं और जो स्थानीय कांग्रेस सरकार को ताकत देंगे। जैसे कि राजस्थान को विशिष्ट राज्य का दर्जा देना।

 

इतना बड़ा रेगिस्तान, इतनी बड़ी पाक सीमा, इतना बड़ा राष्ट्रीय पशुधन, अन्तिम व्यक्ति तक सेवा पहुंचाने की भारी-भरकम लागत। सीमा ही 1044 किमी लम्बी है। इसी सीमा के दोनों ओर पारिवारिक रिश्ते पलते हैं। क्यों नहीं इनका आवागमन सुगम किया जाए, ताकि इस जरिए भाईचारे का एक नया वातावरण तो बनाया ही जा सकता है। यूं तो सीमा प्रदेश जम्मू-कश्मीर भी है, किन्तु वहां कट्टरता का वातावरण है।

 

राष्ट्रीय हित का एक बड़ा निर्णय होगा-यहां तेल की खोज, उसके उत्खनन और परिशोधन पर निवेश बढ़ाया जाना चाहिए। हर दृष्टि से ऎसा होना श्रेष्ठ तो होगा ही, प्रदेश का यह भाग मध्य-पूर्व देशों की तरह विकसित भी हो जाएगा। इसी के साथ सौर ऊर्जा और पवन ऊर्जा की बड़ी योजनाएं परमाणु संयंत्रों का विकल्प बन सकती हैं। देश के अन्य भागों में सौर ऊर्जा इतनी घन रूप नहीं है।

 

राष्ट्रीय सलाहकार परिषद ने देश को सूचना का अघिकार, शिक्षा का अघिकार, नरेगा जैसे कार्यक्रम दिए हैं। जरूरत इस बात की है कि, परिषद की ओर से सुझाए कार्यक्रमों को संसद में जस का तस पास किए बिना उन पर व्यापक बहस हो-चाहे संसद में या संसदीय समितियों में। इसी तरह परिषद आने वाले समय की आवश्यकताओं के अनुरूप देश का एक मानचित्र भी तैयार कर सकती है। ‘मेरे सपनों का भारत’ जैसा एक स्वरूप!

 

सोनिया गांधी कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में सरकार के अनेक निर्णयों को प्रभावित करने की क्षमता रखती हैं। राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री जैसे पदों को भी उनकी सहमति से पूरित किया जाता है। विश्व की गिनी-चुनी शक्तिमान महिलाओं में भी उनका नाम है। लेकिन इन्दिरा गांधी या लाल बहादुर शास्त्री जैसा प्रभाव पाने के लिए उन्हें अभी और मेहनत करनी होगी।

 

इसका सबसे बड़ा कारण है कि इनके अघिकांश निर्णय सरकार के अनुकूल दिखाई देते हैं। देश के अनुकूल हों, भले ही कांग्रेस को कम लाभ हो, तब इनको कांग्रेस के ऊपर देश का नेता माना जाएगा। आज नहीं। इसके लिए आपके पास एक सशक्त सूचना तंत्र भी होना चाहिए। लोग क्या सोचते हैं, क्या अपेक्षा रखते हैं आदि जानकारियां सीधी आपके पास आनी चाहिए। आज तो जगह-जगह छलनियां (फिल्टर्स) लगी हैं। इसीलिए आज तक देश में समान नागरिकता का कानून भी नहीं बन पाया।

 

राजस्थान में और केन्द्र में आपके दल की सरकारें हैं। दोनों में समन्वय करके बड़ी-बड़ी परियोजनाएं लागू की जा सकती हैं। पुरानी, अधूरी योजनाओं को पूरा किया जा सकता है। ये सारी बातें ही ऎसी हैं जिन पर आप निर्णय करके देश को एक बड़ा संदेश दे सकती हैं। समय-समय पर अन्य नेताओं को भेजकर कार्यो का जायजा कराया जा सकता है। राजनीति से ऊपर उठकर देश की कमान हाथ में लेने का प्रश्न है। ताकि देश का विकास राजनीति की भेंट न चढ़े और लोग आपकी आंखों में अपने सपनों को साकार होते देख सकें। साथ ही देश को सक्षम नेतृत्व मिल सके।

 

गुलाब कोठारी

Advertisements

टिप्पणी करे »

अभी तक कोई टिप्पणी नहीं ।

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

WordPress.com पर ब्लॉग.

%d bloggers like this: