Gulabkothari's Blog

अक्टूबर 13, 2011

नया विश्वास

तृणमूल कांग्रेस की सरकार बनने के बाद पहली बार आठ अक्टूबर को मुख्यमंत्री, सुश्री ममता बनर्जी से मिलने का अवसर मिला। मन में कई प्रश्न भी रह-रहकर उठ रहे थे। सम्पादक की हैसियत से समय मांगा था, किन्तु वहां पहले से ही पत्र विशेष के पत्रकार उपस्थित थे और पूरे समय बैठे भी रहे। अत: मेरे मन के भीतर के प्रश्न तो मेरे साथ ही वापस लौट आए।

 

 

हां, उन्होंने राजस्थानी उद्यमियों से प्रदेश (पश्चिम बंगाल) में निवेश करवाने के लिए सहयोग मांगा। इस मुद्दे पर गंभीर भी नजर आई। मैंने उनके समक्ष यह स्थिति भी रखी कि राजस्थान के पिछली पीढ़ी के उद्योगपति यहां खूब हैं। प्रदेश की पहचान भी बनाई है। तब नई पीढ़ी के उद्यमी स्वयं क्यों नहीं आ रहे हैं, इसकी समीक्षा भी होनी चाहिए। मैं यहां के उद्यमियों, चुनिन्दा व्यवसायियों के साथ संवाद करवा सकता हूं।

 

आप राजस्थान आएं तो वहां भी उद्यमियों के साथ बातचीत की जा सकती है। जो रूकावटें हैं, उनको दूर करने की पहल सरकार की ओर से होगी, तो नए लोग अवश्य आएंगे। पिछली सरकार में भी ऎसे अनुभव हुए कि राजस्थानी व्यापारियों का सम्मान तार-तार हुआ। इस पर ममता दी ने तुरन्त फैसला दे दिया। आप मुझे राजस्थानी उद्यमियों की सूची दें, जो यहां प्रतिष्ठित हैं।

 

उनको 17 अक्टूबर को होने वाली विचार-विमर्श बैठक में बुला लेंगे। फोन उठाया और उद्योग मंत्री पार्थ चटर्जी को पत्रिका के कोलकाता प्रभारी के फोन नम्बर लिखा दिए। कहा भी कि इनको भी कार्यक्रम में आमंत्रित किया जाए। सूची के अनुरूप भी निमंत्रण-पत्र भेज दिए जाएंगे। ‘राजस्थान में तो आप हमारे ही हैं। आने की दरकार क्यों होनी चाहिए! हम पर भरोसा कीजिए।’

 

ममता दी की बात में कहीं अहंकार नहीं था। बंगाल के विकास के प्रति एक भावपूर्ण अपेक्षा का भाव भी था और स्नेह भी। उन्होने अपना मोबाइल नम्बर देते हुए एक चुटकी मीडिया के नाम जरूर काटी। ‘किसी को देना मत। लोग अभद्र संदेश भी देते हैं।’ आपको मिलने में कभी दिक्कत नहीं होगी। हमें राजस्थान से निवेश चाहिए। इसमें आपका सहयोग चाहिए। हर बार की तरह इस बार भी द्वार तक छोड़ने आई। सरस्वती लक्ष्मी में रूपान्तरित होना चाह रही थी।

 

गुलाब कोठारी

Advertisements

टिप्पणी करे »

अभी तक कोई टिप्पणी नहीं ।

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

वर्डप्रेस (WordPress.com) पर एक स्वतंत्र वेबसाइट या ब्लॉग बनाएँ .

%d bloggers like this: