Gulabkothari's Blog

मार्च 20, 2012

गुलाब कोठारी को मूर्ति देवी पुरस्कार

जयपुर । मनीष्ाी रचनाकार व चिन्तक गुलाब कोठारी को वष्ाü 2011 का प्रतिष्ठित मूर्ति देवी पुरस्कार प्रदान किया जाएगा। भारतीय ज्ञानपीठ की ओर से भारतीय दर्शन और सांस्कृतिक विरासत पर आधारित मौलिक चिंतन और लेखन के लिए दिया जाने वाला यह 25वां मूर्ति देवी पुरस्कार होगा। कोठारी को यह पुरस्कार उनकी कृति “मैं ही राधा मैं ही कृष्ण” के लिए दिया जाएगा। भारतीय ज्ञानपीठ के निर्णायक मण्डल ने सोमवार को इसकी घोष्ाणा की।

भारतीय ज्ञानपीठ के निदेशक रवीन्द्र कालिया ने बताया कि टी.एन. चतुर्वेदी की अध्यक्षता में गठित निर्णायक मण्डल की बैठक में यह निर्णय किया गया है। इस बैठक में प्रो. सत्यव्रत शास्त्री, डॉ. प्रतिभा रॉय, प्रो. के.सçच्चदानंद, प्रो. वृष्ाभ प्रसाद जैन, प्रबंध न्यासी साहू अखिलेश जैन और वे स्वयं उपस्थित थे। निर्णायक मण्डल ने वष्ाü 2010 के लिए भी मूर्ति देवी पुरस्कार की घोष्ाणा की। यह पुरस्कार उर्दू के विद्वान प्रो. गोपीचंद नारंग को उनकी आलोचनात्मक कृति “उर्दू गजल और हिन्दुस्तानी जहनो-तहजीब” के लिए दिया जाएगा।

भारतीय ज्ञानपीठ की ओर से दिया जाने वाला मूर्ति देवी पुरस्कार भारतीय दर्शन और सांस्कृतिक विरासत पर आधारित मौलिक भारतीय चिंतन और लेखन के क्षेत्र में प्रतिष्ठित पुरस्कार है। अब तक सीके नागराज राव, विष्णु प्रभाकर, विद्यानिवास मिश्र, श्यामाचरण दुबे, शिवाजी सावंत, निर्मल वर्मा, गोविंद चंद्र पाण्डे, एम. वीरप्पा मोइली जैसे मनीष्ाी रचनाकारों को यह पुरस्कार प्रदान किया जा चुका है।

गुलाब कोठारी राजस्थान से चौथे मनीष्ाी रचनाकार होंगे, जिन्हें यह पुरस्कार प्रदान किया जाएगा। राजस्थानी में यह पुरस्कार अब तक कन्हैयालाल सेठिया को मिला है जबकि हिन्दी में राजस्थान से यशदेव शल्य और कल्याण मल लोढ़ा को इस पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।
(का.सं.)

कोठारी को अब तक मिले प्रमुख सम्मान
– 1993 – केन्द्र सरकार की ओर से राष्ट्रीय एकता पुरस्कार
– 2000- भारतेन्दु हरिश्चंद्र पुरस्कार
– 2003- आचार्य तुलसी सम्मान
– 2004- विष्णुतीर्थ शिक्षा प्रतिष्ठान की ओर से विष्णुतीर्थ सम्मान
– 2006 – नंदा फाउंडेशन की ओर से नैतिक सम्मान
– 2007- आईओयू पीस अवार्ड ऑफ द ईयर
2007 – ब±मçष्ाü आश्रम तिरूपति की ओर से राष्ट्र गौरव सम्मान
2011- महाराणा मेवाड़ फाउंडेशन का हल्दीघाटी पुरस्कार

 

Press Release English

 

“*Main Hi Raddha Main Hi Krishna*” composed by renowned Vedic Scholar & Chief Editor of Patrika Group of Newspapers Dr.Gulab Kothari is a great work in the realm of spirituality. The compositions delineate upon the philosophical course of life in simple words that stand on practical pedestal. The narration allows us to delve deeper into self “Shakti & Shaktimaan. ”

Through these we are able to understand both the forms and also the logic why incarnation of Radha is essential to realize Krishna.

Without understanding the four pursuits (Purushartha) of life the evaluation of universe is impossible. For this reason this work can be termed as an inspiration to achieve the highest objectives of life.

 

 

Press Release Hindi

 

http://patrika.com/gulabkothari/press%20release%20hindi.pdf

टिप्पणी करे »

अभी तक कोई टिप्पणी नहीं ।

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

WordPress.com पर ब्लॉग.

%d bloggers like this: