Gulabkothari's Blog

जनवरी 1, 2017

एक म्यान में दो तलवार

पिछले तीन दिनों में उत्तर प्रदेश और अरुणाचल, दो राज्यों के मुख्यमंत्रियों को पार्टी से निष्कासित करने की घटनाएं हुईं। यूपी में सपा ने अखिलेश का निष्कासन वापस ले लिया लेकिन अरुणाचल में बर्खास्त मुख्यमंत्री ने भाजपा में शामिल होकर राज्य की पहली भाजपा सरकार बनवा दी। ऐसे ही प्रयास पूरे के पूरे दल को भाजपा से जोडऩे के मणिपुर और उत्तराखण्ड में हो चुके हैं। राज्यपालों की संख्या तो और भी बड़ी है। देश में भाजपा के इस, लोकतंत्र की छवि का मीडिया आकलन करना नहीं चाहता। क्या ये घटनाएं उसकी नजर में गंभीर नहीं हैं। यह तो तस्वीर का एक पहलू है। उत्तर प्रदेश की घटना का परिप्रेक्ष्य कुछ दूसरा भी है। अमरसिंह की भूमिका को भी पूरी तरह संदिग्ध ही माना जा रहा है। घर में फूट हो तो कोई भी भितरघात कर सकता है। कृष्ण कह गए हैं कि, समय परिवर्तनशील है। जिस दिन मैंने राजस्थान पत्रिका का कार्यभार संभाला, उसी दिन श्रद्धेय बाबू साहब ने एक संकेत किया था-‘एक म्यान में दो तलवारें नहीं रह सकतीं। जिस दिन मैं 60 साल का हुआ, मैंने पत्रिका के पाठकों से विदा मांग ली थी। जिस दिन तुम साठ साल के हो जाओ, उस दिन तुम्हें भी यही करना है। तुम इस गलतफहमी में मत रहना कि तुम्हारे बिना पत्रिका नहीं चलेगी। पत्रिका के परिवर्तन को तब तुम संभाल नहीं पाओगे।’

समाजवादी पार्टी की आज वही स्थिति है। अभी तक मुलायम सिंह को भी यही गलतफहमी है कि सपा उनके बिना नहीं चल पाएगी। अखिलेश, उनको अभी बच्चा लगता है। अपने पुराने विश्वास पात्रों की सलाह पर उन्होंने अखिलेश का पार्टी से निष्कासन कर दिया। यह निर्णय अखिलेश के लिए एक स्वर्णिम अवसर बन गया। कहां तो सपा टूटने के कगार पर थी और कहां अखिलेश ने कांग्रेस और रालोद को साथ लेकर विजय का एक तरह से जयघोष कर डाला। मुलायम सिंह और शिवपाल न केवल दंग रह गए बल्कि समय की धारा को अखिलेश के पक्ष में जाते देखकर घुटने टेक दिए। शक्ति प्रदर्शन में जहां अखिलेश के खेमे में 198 विधायक खड़े थे, उसके मुकाबले नेताजी उर्फ मुलायम सिंह के यहां कव्वे उड़ रहे थे। इससे ज्यादा और क्या किरकिरी हो सकती है। अपनी बात को ढकने के लिए एक चर्चा यह चला दी गई कि, यह तो मुलायम सिंह की रणनीति ही थी जिससे कि खराब छवि के लोगों को अखिलेश से दूर किया जा सके। पर यह चर्चा काम नहीं आई। भीष्म पितामह के हाथ तो बंधे ही रहेंगे।

मुलायम सिंह कितने भी अनुभवी हों, उनके सम्पर्क कितने भी मजबूत क्यों न हो, अब वे ‘सक्रिय राजनीति’ में रहने की स्थिति में नहीं हैं। उन्हें आज भी अपनी परिस्थिति का आकलन करना चाहिए। भारतीय पुरा-शास्त्रों के निर्देशों को समझना चाहिए और उससे भी आगे इस तथ्य को हृदयंगम कर लेना चाहिए कि, जब तक वे शीर्ष पुरुष के रूप में सपा में निर्णय करते रहेंगे, तब तक अखिलेश हर निर्णय के लिए उनकी ओर ही देखते रहेंगे। वह पूर्ण आत्मविश्वास के साथ स्वयं निर्णय नहीं ले पाएंगे। मुलायम सिंह के लिए तो उचित यही है कि वे अपनी मर्जी से पद का त्याग कर दें। ससम्मान यह पद अखिलेश को सौंप दें और स्वयं एक सलाहकार की भूमिका निभाएं। यह बात मैं वंशवाद को बढ़ावा देने के लिए नहीं लिख रहा पर आज की स्थिति में तो इसका विकल्प भी नहीं है। अखिलेश अपनी सूझ-बूझ से पहले भी दो-तीन बार मुलायम सिंह को मात दे चुके हैं।

सपा के दो फाड़ होने की खबर से भाजपा ने अवश्य दिवाली मनाई होगी। किन्तु अब तो उसके लिए परिस्थितियां पहले से अधिक विकट होती नजर आ रही हैं। अब भाजपा को न तो सपा से सीधा लडऩा पड़ेगा, ना ही कांग्रेस से। यदि राहुल गांधी और जयंत चौधरी का अखिलेश से गठबंधन तय हो जाता है तब उत्तर प्रदेश का चुनाव एक त्रिकोणीय संघर्ष रह जाएगा। भाजपा को सरकार तक पहुंचने के लिए एक ही मार्ग उपलब्ध होगा। जिस प्रकार उसने जम्मू एवं कश्मीर में सिर झुकाकर पीडीपी के साथ हाथ मिलाया और सरकार में शामिल हो गए। ऐसा एक और अवसर भाजपा के सामने है। उत्तर प्रदेश में भी भाजपा सत्ता तक पहुंच सकती है, क्योंकि स्वतंत्र रूप से आज भी भाजपा के पास सिवाय नरेन्द्र मोदी के कोई दूसरा चेहरा नहीं है। सबक लेने के लिए बिहार के चुनाव परिणाम भी उसके सामने हैं। भाजपा यह खतरा क्यूं कर मोल लेगी। पर बिना चेहरे के कौन अखिलेश और मायावती को चुनौती देगा, यह भी कम महत्वपूर्ण नहीं है। सपा के चौबीस घंटे के इस भूकम्प ने चुनाव के सारे समीकरण बदल दिए।

Advertisements

टिप्पणी करे »

अभी तक कोई टिप्पणी नहीं ।

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

WordPress.com पर ब्लॉग.

%d bloggers like this: